700*90

Wednesday, September 2, 2015

FUN-MAZA-MASTI मेरी और मेरे सेठ की बेटी की आप बीती

FUN-MAZA-MASTI

मेरी और मेरे सेठ की बेटी की आप बीती




हाय दोस्तो, मेरा नाम नेहा (बदला हुआ नाम) है।
  ये आप बीती मेरी दुकान में काम करने वाले लड़के और मेरी है तो मैंने सोचा की मैं भी अपनी आपबीती आप लोगों के साथ शेयर करूँ।
ये आप बीती आप उसी लड़के की जुवानी सुनिए।

अब मैं अपनी आपबीती पर आता हूँ।
बात आज से तीन साल पहले की है, जब मैं भोपाल मैं एक प्राईवेट कम्पनी में जाव करता था।
एक दिन जब सेठ के घर वाले सब घर से बाहर गए थे, उस दिन उनकी बेटी का पेपर था तो वो घर पर ही रूकी थी। सेठ के कहने पर मैं भी उनके घर पर रुका था।
जब वो पेपर देकर घर आई तो मैंने उससे पूछा पेपर कैसा रहा? तो उसने कहा ठीक था।
उसके बाद हम टीवी देखने लगे। टीवी देखते-देखते हम दोनों को नींद लग गई। रात के करीब नौ बजे मेरी नींद खुली तो नेहा ने मुझको उठाया और खाना खाने के लिये कहा।
मैंने कहा ठीक है, और फिर उसने थाली लगाई और हम दोनों ने खाना खाया। उसके बाद हम दोनों उसके बेड-रूम मे सोने चले गए।
उसने बेड-रूम में जाकर अपनी नाईटी पहनी और मैंने अपना लोवर पहना और हम बेड पर सोने लगे।
सोने के बाद, लगभग एक दो बजे के करीब नींद में मेरा हाथ नेहा के बूब्स तक पहुँच गया। अचानक उसकी नींद खुल गई और उसने मेरे हाथों को अपने हाथों के नीचे दबा लिया और मसलने लगी।
अब मेरी नींद भी खुल गई तो मैंने अपना हाथ खींचने की नाकाम कोशीश की तो उसने मेरा हाथ नहीं छोड़ा और कहने लगी दबाओ ना, प्लीज!!
मैं भी तैयार हो गया। फिर मैंने उसकी नाईटी उतार दी और उसके 34 सी साईज के बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा।
वो भी वासना की आगमें जलने लगी और फिर मैंने उसे उलटा करके उसकी ब्रा का हूक खोल दिया और उसके दूध को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा।
चूसते-चूसते मैंने उसके ब्राउन निप्पल लाल कर दिए। उसके बाद मैंने उसकी पैंटी उतारी और उसकी चूत को चाटने लगा।
वो मेरा लोवर निकालने लगी। लोवर के साथ-साथ उसने मेरी चड्डी भी उतार दी।
फिर हम 69 की पोजिशन में आ गए।
वो मेरे 6 इंच के लण्ड को अपने मुँह मे लेकर चाटने लगी और मैं उसकी चूत चाटता रहा। फिर वो बोली अब और मत तड़पाओ, मेरी चूत की प्यास बुझाओ।
मैंने भी देर न करते हुए उसे सीधा किया और अपना लण्ड उसकी चूत पर सेट करने लगा। फिर एक जोर का झटका लगाया और सुपाड़ा उसकी चूत में प्रवेश कर गया।
उसकी थोड़ी चीख निकल गई तो मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और उसका रसपान करने लगा। फिर मैंने एक झटका और लगाया तो आधा लण्ड उसकी चूत में चला गया। फिर मैंने तीसरे झटके में पूरा लण्ड चूत के अंदर भर दिया।
मैं साथ में उसके दूध को भी मसलता रहा तभी अचानक वो अकड़ने लगी। मैं समझ गया कि नेहा का पानी छूट गया।
कुछ देर बाद मेरा भी निकलने वाला था तो मैंने नेहा से पूछा मेरा निकलने वाला है, कहाँ निकालूँ।।।?? तो नेहा ने कहा अंदर ही निकाल दो।।।
मैंने अपनी स्पीड बड़ा दी और मेरा भी नेहा कि चूत में ही निकल गया। मेरे वीर्य से उसकी चूत भर गई।
फिर हम दोनों कुछ देर ऐसे ही बिस्तर पर पड़े रहे और मैं नेहा के दूध को चूसता रहा। जब घड़ी देखी तो सुबह के साढ़े पाँच बज गए थे और हम नंगे ही सो गए।
यह थी मेरी और मेरे सेठ की बेटी की आप बीती। आपको कैसी लगी…??










राज शर्मा स्टॉरीज पर पढ़ें हजारों नई कहानियाँ

Kamuk Kahaniyan.Com

erotic_art_and_fentency Headline Animator