700*90

Monday, December 27, 2010

हिंदी सेक्सी कहानियाँ पिताजी तुसी ग्रेट हो

हिंदी सेक्सी कहानियाँ

पिताजी तुसी ग्रेट हो

में हूँ कुसुम. में पीछले महीने 19 साल की हुई हू. घर पर सिर्फ़ में और
पिताजी हैं. मेरी मा का 1 साल पहले देहांत हो गया था. जब में 18 साल की
थी तब मेरी सहेलियों ने मुझे चुदाई के बारें में बताया. मेरी सबसे अच्छी
सहेली हैं मेघा.

मेघा मुझसे 2 साल बड़ी हैं और उसने 18 साल की उमर में ही अपनी चूत में
उंगली करना शुरू किया. वो मुझसे हमेशा कहती चुदाई के सुख से बारें में.
में कॉलेज जाने लगी थी और पिताजी ने मुझे हमारे गाओं की लेक्चरर प्रिया
दीदी के पास ट्यूशन के लिए भेजना शुरू किया. प्रिया वैसे तो 35 साल की
थी, पर दिखने में अभी भी 20-22 साल की लगती थी. उनके पति हरीश भी कॉलेज
में प्रोफेसर हैं और दोनो मुझे पढ़ाई में हेल्प किया करते थें. एक दिन
में ग़लती से उनकी एक किताब अपने साथ ले आई.

उसको देने के लिए में उनके घर गयी. घर पर उनकी 8 साल की बेटी दूसरे कमरे
में पढ़ाई कर रही थी. उसने बताया कि उसकी मम्मी और पिताजी दूसरे कमरे में
कुछ इंपॉर्टेंट काम कर रहें हैं. में जब उनके कमरे की तरफ गयी तो मुझे
प्रिया की आवाज़ें सुनाई दी…ओह्ह्ह हरीश तुम ग़ज़ब की चुदाई करते
हो…उम्म्म्मम ह ऐसे ही ठुकाई करो उम्म्म्म तुम्हे यह रेसीली चूत बहुत
पसंद हैं ना उम्म्म्ममम.


इतनी पसंद हैं तो तड़पाते क्यूँ हो अहह. मैने उनकी खिड़की से देखा तो
प्रोफेसर प्रिया पर चढ़के उसकी चूत मार रहें थें. पहली बार किसीकि चुदाई
देख रही थी. में थोड़ा पीछे हटी, पर मुझसे रहा नही गया तो में फिर देखने
लगी और अपने आप ही मेरा एक हाथ अपनी चूत पर गया . मैने अपनी चूत रगड़ ने
लगी. प्रिया जैसे पागल होकर हरीश को अपनी तरफ खींच रही थी. और हरीश भी
उसकी मज़े से चुदाई कर रहा था. उनकी चुदाई ख़तम होते ही में घर आ गयी
लेकिन पूरा दिन मुझसे बस कुछ और सोच ही नही पा रही थी.


इतने में पिताजी ने मुझे अपने कमरे में बुलाया. पूछने लगें कि पढ़ाई कैसे
चल रही हैं. मेरे पिताजी 40 साल के थें. पिताजी से मैने कह दिया कि मुझे
प्रिया दीदी के पास पढ़ाई करने नही जाना. उन्होने पूछा तो मैने कुछ नही
कहा. वो मुझपर बरस पड़े. उन्हे लगा में पढ़ाई नही करना चाहती. कुछ देर
बाद वो मेरे कमरे में आए और उन्होने शांत रहकर मुझसे प्रिया के घर ना
जाने की वजह पूछी.


मैने उन्हे बता दिया जो मैने देखा था. उन्होने हल्की सी मुश्कूराहट के
साथ अपना हाथ मेरी जाँघो पर रखा. और कहने लगे वो दोनो जो कर रहें थे उसको
करने से बहुत मज़ा आता हैं. पिताजी मेरी जाँघो पर हाथ फेरने लगे और में
बस उन्हे देखती रही. मूह से हल्की सी सिसकारी निकली सस्स्सस्स उम्म्म्मम
पिताजी. कुछ हो रहा हैं पेशाब वाली जगह में. बेटी कुसुम उस जगह को चूत
कहते हैं, पिताजी बोल पड़े.


पिताजी चूत को रगड़िए ना मैने कहा….उन्होने मेरी सलवार का नाडा खोला और
मेरी सलवार उतारी. फिर उन्होने कहा, कुसुम अगर पूरी नंगी हो जाओ तो और भी
मज़ा आएगा" और यह कहकर उन्होने मेरी कमीज़ उतार दी. में अब सिर्फ़ ब्रा
और कच्ची में थी. पिताजी मेरे करीब आए और उन्होने मेरे होंटो को चूमा उम
म्मुउउआअह्ह्ह्ह्ह…में भी उनको चूमने लगीं. पिताजी मेरे नीचले होन्ट को
अपने होंठो में लेकर उसको ज़ोर ज़ोर से दबाने लगे अपने होंठो में. फिर
उन्होने मेरे होंठो को दांतो से काटना शुरू किया.


मैने पिताजी की पीठ पर अपने हाथ ज़ोर से दबायें और उन्हे अपनी तरफ खींचने
लगी. पिताजी अपनी बेटी की जीब नही चाटेंगे? मैने पूछा और अपना मूह खोलकर
अपनी जीब बाहर कर दी. पिताजी मेरी जीब पर अपनी जीब फेरने लगें. पिताजी ने
भी मेरी जीब को अपने होंठो के बीच कसकर पकड़ा और फिर अपने होंठो को
रगड़ना शुरू किया मेरी जीब पर आगे-पीछे उम्म्म्ममम ओम्म. जब उन्होने मेरी
जीब को छोड़ दिया तो मैने पूछा, "पिताजी स्वाद कैसा था"?. पिताजी बोले और
चूसने को जी कर रहा हैं कुसुम.


मेरी चूत पानी छोड़ने लगीं थी. मैने पिताजी से कहा कि मेरी चूत में
हुलचूल हो रही हैं. कुछ करो ना पिताजी बहुत अच्छा लग रहा हैं. पिताजी ने
मेरी ब्रा उतार दी और मेरे मम्मो पर दोनो हाथ फेरें. फिर उन्होने मेरे
मम्मे दबाए और मेरी निपल्स को पिंच करना चुरु किया उम्म्म अहह पिताजी ओह
माआआ यह क्या कर रहें हो अप अहह मररर्ररर गाइिईईईईई हान्न्न्न्न्न और
ज़ूऊऊररर्र्ररर से कारूव ह. पिताजी ने मेरी लेफ्ट चुचि अपने मूह में ली
और उसको चूसने लगे.

में मस्त हो रही थी. मैने उनका दूसरा हाथ अपनी राइट चुचि पर रखा और तुरंत
पिताजी उसको ज़ोर ज़ोर से अपनी उंगलियों से मसालने लगें. में दोनो हाथों
से पिताजी को अपनी छाती पर दबाने लगी. फिर पिताजी ने मेरी लेफ्ट चुचि को
अपनी जीब से चाटना शुरू किया. वो अपनी जीब मेरी चुचि पर सर्कल्स में
घूमने लगें उूउउफफफफफ्फ़ क्या ग़ज़ब का एहसास था. उनकी थूक से मेरी लेफ्ट
चुचि गीली हो गयी थी.

फिर मैने अपनी लेफ्ट चुचि अपने मूह में ली और पिताजी की थूक चाट ली अपनी
चुचि से उम्म्म्म

पिताजी आपकी थ्हूक बहुत मीठी हैं. फिर पिताजी ने अपना कुर्ता और अपनी
लूँगी निकाली. मैने पहली बार अपने पिताजी को नंगा देखा. पिताजी इसको क्या
कहते हैं? यह मेरा लंड हैं बेटी. मैने उनके लंड को ज़ोर से पड़का और
दबाने लगीं. उफ़फ्फ़ कितना गर्म लग रहा था पिताजी का लंड . बेटी, घोड़ी
बन जाओ, उन्होने कहा. में तुरंत अपने हाथों पर और घुटनो पर आ गयी. ऑश
कुसुम क्या प्यारी गांद हैं तेरी….ओह्ह्ह पिताजी आपको अच्छी लगी ना?


बहुत अच्छी लगी बेटी. पिताजी ने मेरी गांद पर दोनो हाथ रगडे और फिर मेरी
गांद को दबाने लगें उंगलियों से. अहह पिताजी उम्म्म और करो ना…और कर
बेटीचोद….और कर….अहह ऐसे शीयी उम्म्म्मम. पिताजी मेरी गांद को ज़ोर ज़ोर
से स्क्वीज़ करने लगें और फिर उन्होने मेरी गांद को चूमना शुरू किया. में
जैसे जन्नत में जाने लगी. अपनी गांद को उनके मूह पर धकेलने लगी अहह
पिताजी आप जो कर रहें हो वो बहुत अच्छा लग रहा हैं अहह.


अब मेरी गांद को अपने दाँतों से काटने लगें. मैने एक ज़ोर के छींक निकाली
ऑश माआआआआअ. मेरी गांद पर अब पिताजी अपनी जीब रगड़ने लगें. चाटने लगें
मेरी गांद को. फिर उन्होने मेरी गांद पर थप्पड़ मारना शुरू किया आअहह
क्या कर रहा हैं बेहेन्चोद… मैने गुस्से में कहा. हालाँकी मुझे अच्छा लग
रहा था. चुप साली छिनाल….बेहेन्चोद नही बेतिचोद हूँ में…यह कहकर पिताजी
ने मेरी गांद को फैला दिया और मेरी गांद की क्रॅक को चाटने लगें उम्म्म्म
अहह पिताजी.


फिर उन्होने मेरी गांद की छेद पर थूक दिया और अपनी एक उंगली रगडी मेरी
गांद की छेद पर. उंगली को मेरी गांद में डालने लगें. ओह्ह्ह पिताजी अहह
मेरी गांद अहह. उनकी उंगली मेरे छेद को खोलते हुवे अंदर गयी मेरी गांद
में. मैने मुड़कर पिताजी को देखा और कहा, कितने बड़े गान्डू हैं आप
पिताजी ओह मेरी गांद….उम्म्म्म.


पिताजी ने अपनी निकाल ली मेरी गांद से और मुझे फिर टर्न करके मेरी पीठ पर
सुलाया. पिताजी का लंड नज़र आ रहा था मुझे. मैने उठकर उसको पकड़ा और उसके
सुपादे को पीछे किया और तुरंत लंड को अपने मूह में डाल दिया उम्म्म्ममममम
ओह….पिताजी तो जैसे देखते ही रह गये कि उनकी प्यारी सी बिटिया रंडी बन
गयी हैं. मैने पिताजी के लंड को ज़ोर ज़ोर से चूसा….उनके सूपदे पर अपनी
जीब फेरी…उम्म्म्मम कितना प्यारा और मीठा लग रहा था उनका लंड .


फिर मैने लंड पर थूक दिया और उनके लंड को चाटने लगीं उम्म्म. पिताजी ने
मेरी तरफ देखा और बोलें…"तू तो अपनी मा से भी अच्छा चूस लेती हैं"…
पिताजी ने लंड मेरे मूह से निकाल दिया मेरी चूत को चूमने लगें. मेरी चूत
जो पहले से गीली थी, पिताजी के होंटो के स्पर्श से जैसे उसमें आग लगने
लगीं उम्म्म. मैने पिताजी के बालों को पड़का और उन्हे ज़ोर से अपनी चूत
पर दबाया. पिताजी मेरी चूत पर अपने होंटो को रगड़ने लगें.


में बस मोन करती रही उम्म्म अहह पिताजी आपकी बेटी की चुतत्त्टटटतत्त कैस
लगी उम्म्म. पिताजी ने कुछ नही कहा लेकिन फिर मेरी चूत को खोलकर अपनी जीब
मेरी चूत में डाल दी. उफफफफफफफफफ्फ़ अहह पिताजी……..मुझसे रहा नही गया और
में झाड़ गयी. मेरी चूत का सारा पानी उनकी जीब और मूह में चला गया .
पिताजी ने उसको चूसा और ज़ोर ज़ोर से मेरी चूत पर अपनी जीब रगड़ते रहें.


फिर उन्होने अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ा और मेरी कमर पकड़कर मेरी चूत पर
अपना लंड धकेल दिया. मेरी गीली चूत में उनका लंड अंदर जाने लगा. एक ज़ोर
के झटका लगा और उनका पूरा लंड मेरी चूत में जा घुसा. अहह ओह म्माआ मैने
अपनी टाँगें बंद की और चूत के दरवाज़े जैसे ही करीब आयें… मैने पिताजी के
लंड को महसूस किया. उनका मोटा लंड मेरी चूत के अंदर दफ़न था. उन्होने लंड
को निकाला और मुझे दिखाया. मैने लंड पर कुछ खून लगा देखा.


पिताजी ने कहा "कुसुम तेरी चूत का दरवाज़ा खुल गया हैं. अब तुझे रोज़
चोदुन्गा…पिताजी ने फिर से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चूत
में लंड को अंदर-बाहर करने लगें. अहह ओह उम्म्म पिताजी ज़ोर ज़ोर से
पेलों मेरी चूत को. और ज़ोर से करो पिताजी आहह उम तुम्हारी बेटी की चूत
अबसे सिर्फ़ आपकी हैं पिताजी. आपको जितना चाहे…जब जी करें मेरी चुदाई
किया करो उम्म्म ऑश कितना मज़ा आ रहा हैं उम्म्म.


पिताजी से मेरे मम्मो को पड़का और ज़ोर ज़ोर से दबाने लगें. चुदाई करते
वक़्त मेटी चुचियाँ दबाने लगें. मेरी भी कमर उठकर पिताजी के झटको का साथ
दे रही थी. कुछ देर बाद पिताजी ने अपने लंड का सारा पानी मेरी चूत में
उंड़ेल दिया. ओर मेरी प्यासी कंवारी चूत की प्यास बुझ गयी. वाह पिताजी
तुसी जबरदस्त हो. पिताजी तुसी ग्रेट हो

पिताजी तुसी ग्रेट हो

 Mein hoon Kusum. Mein peechle mahine 19 saal ki huwi. Ghar par sirf
mein aur pitaji hain. Meri ma ka 1 saal pehle dehant ho gaya tha. Jab
mein 18 saal ki thi tab meri saheliyon ne mujhe chudai ke barein mein
bataya. Meri sabse acchi saheli hain Megha.

Megha mujhse 2 saal badi hain aur usne 18 saal ki umar mein hi apni
chut mein ungli karna shuru kiya. Woh mujhse hamesha kehti chudai ke
sukh se baarein mein. Mein college jaane lagi thi aur pitaji ne mujhe
hamare gaon ki lecturer Priya didi ke pass tution ke liye bhejna shuru
kiya. Priya waise to 35 saal ki thi, par dikhne mein abhi bhi 20-22
saal ki lagti thi. Unke pati Harish bhi college mein professor hain
aur dono mujhe pdahi mein help kiya karte thein. Ek din mein galti se
unki ek kitaab apne saath le aayi.

Usko dene ke liye mein unke ghar gayi. Ghar par unki 8 saal ki beti
dusre kamre mein padhai kar rahi thi. Usne bataya ki uski mummy aur
pitaji dusre kamre mein kuch important kaam kar rahein hain. Mein jab
une kamre ki taraf gayi to mujhe Priya ki awaazein sunai di…Ohhh
Harish tum gazab ki chudai karte ho…ummmmm ahhhh aise hi thukai karo
ummmm tumhe yeh reseeli chut bahut psasand hain na ummmmmm.


Itni psaand hain to tadpate kyun ho ahhhhh. Maine unki khidki se dekha
to professor Priya par chadke uski chut maar rahein thein. Pehli baar
kisiki chudai dekh rahi thi. Mein thoda peeche hati, par mujhse raha
nahi gaya to mein phir dekhne lagi aur apne aap hi mera ek haath apni
chut par gaya . Maine apni chut ragad ne lagi. Priya jaise paagal
hokar Harish ko apni taraf kheench rahi thi. Aur Harish bhi uski maze
se chudai kar raha tha. Unki chudai khatam hote hi mein ghar aa gayi
lekin pura din mujhse bas kuch aur soch hi nahi pa rahi thi.


Itne mein pitaji ne mujhe apne kamre mein bulaya. Poochne lagein ki
padhai kaise chal rahi hain. Mere Pitaji 40 saal ke thein. Pitaji se
maine keh diya ki mujhe Priya didi ke paas padhai karne nahi jaana.
Unhone poocha to maine kuch nahi kaha. Woh mujhpar baras pade. Unhe
laga mein padhai nahi karna chahti. Kuch der baad woh mere kamre mein
aaye aur unhone shaant rehkar mujhse Priya ke ghar na jaane ki wajah
poochi.


Maine unhe bata diya jo maine dekha tha. Unhone halki si mushkurahat
ke saath apna haath meri jhaango par rakha. Aur kehne lage woh dono jo
kar rahein the usko karne se bahut mazaa aata hain. Pitaji mere
jhangho par haath pherne lage aur mein bas unhe dekthi rahi. muh se
halki si siskari nikli ssssss ummmmm pitaji. Kuch ho raha hain
peshaabwali jagah mein. Beti Kusum us jagah ko chut kehte hain, pitaji
bol pade.


Pitaji chut ko ragadiye na maine kaha….unhone meri salwaar ka naada
khola aur meri salwaar utaari. Phir unhone kaha, Kusum agar puri nangi
ho jao to aur bhi maza ayega" aur yeh kehkar unhone meri kameez utaar
di. Mein ab sirf bra aur kacchi mein thi. Pitaji mere kareeb aye aur
unhone mere honton ko chuma um mmuuuaaahhhhh…Mein bhi unko chumne
lagin. Pitaji mere neechle hont ko apne honton mein lekar usko zor zor
se dabane lage apne honton mein. Phir unhone mere honton ko daton se
kaatna shuru kiya.


Maine pitaji ki peeth par apne haath zor se dabayein aur unhe apni
taraf kheenchne lagi. Pitaji apni beti ki jeeb nahi chatenge? Maine
poocha aur apna muh kholkar apni jeeb baahar kar di. Pitaji meri jeeb
par apni jeeb pherne lagein. Pitaji ne bmeri jeeb ko apne honton ke
beech kaskar pakda aur phir apne honton ko ragadna shuru kiya meri
jeeb par agey-peeche ummmmmm ohhhhhmm. Jab unhone meri jeeb ko chod
diya toh maine poocha, "pitaji swaad kaisa tha"?. Pitaji bole aur
chusne ko je kar raha hain Kusum.


Meri chut paani chodne lagin thi. Maine pitaji se kaha ki meri chut
mein hulchul ho rahi hain. Kuch karo na pitaji bahut accha lag raha
hain. Pitaji ne meri bra utaar di aur mere mamon par dono haath
pherein. Phir unhone mere mamein dabaye aur meri nipples ko pinch
karna churu kiya ummm ahhhhhhh pitaji ohhhhh maaaaaa yeh kya kar
rahein ho app ahhhhh marrrrrr gayiiiiiiii haannnnnn aur zoooooorrrrrrr
se karooo ahhhh. Pitaji ne meri left chuchi apne muh mein li aur usko
chusne lage.

Mein mast ho rahi thi. Maine unka doosra haath apne right chuchi par
rakha aur turant pitaji usko zor zor se apni ungliyon se masalne
lagein. Mein dono haathon se pitaji ko apni chaati par dabane lagi.
Phir pitaji ne meri left chuchi ko apni jeeb se chaatne shuru kiya.
woh apni jeeb meri chuchi par circles mein ghumane lagein Uuuuffffff
kya gazab ka ehsaas tha. Unki thook se meri left chuchi gili ho gayi
thi.

Phir maine apni left chuchi apne muh mein li aur pitaji ki thook chaat
li apni chuchi se ummmm

pitaaji aapki thhook bahut meethi hain. Phir pitaji ne apna kurta aur
apni lungi nikaali. Maine pehli baar apne pitaji ko nanga dekha.
Pitaji isko kya kehta hain? Yeh mera lund hain beti. Maine unke lund
ko zor se padka aur dabane lagin. Ufff kitna garm lag raha tha pitaaji
ka lund . Beti, ghodi ban jao, unhone kaha. Mein turant apne haathon
par aur ghutno par aa gayi. Ohhhh Kusum kya pyaari gaand hain
teri….ohhh pitaji aapko acchi lagi na?


Bahut achi lgai beti. Pitaaji ne meri gaand par dono haath ragdein aur
phir meri gaand ko dabaane lagein ungliyon se. Ahhhhhhhh pitaji ummm
aur karo na…aur kar betichod….aur kar….ahhhhh aise hiii ummmmm. Pitaji
meri gaand ko zor zor se squeeze karne lagein aur phir unghone meri
gaand ko chumna shuru kiya. Mein jaise jannat mein jaane lagi. Apni
gaand ko unke muh par dhakelne lagi ahhhhhhh pitajiiii aap jo kar
rahein ho woh bahut acchaaaaaaa lag raha hain ahhhhhhh.


Ab meri gaand ko apne daanton se kaatne lagein. Maine ek zor ke cheenk
nikaali ohhhh maaaaaaaaaaa. Meri gaand par ab pitaji apni jeeb ragadne
lagein. Chaatne lagein meri gaand ko. Phir unhone meri gaand par
thappad maarna shuru kiya aaahhhhh kya kar raha hain behenchod… maine
gusse mein kaha. Halan ki mujhe accha lag raha tha. chup saali
chinaal….behenchod nahi betichod hoon mein…yeh kehkar pitaji ne meri
gaand ko fila diya aur meri gaand ki crack ko chaatne lagein ummmm
ahhhhh pitaji.


Phir unhone meri gaand ki ched par thook diya aur apni ek ungli ragdi
meri gaand ki ched par. Ungli ko meri gaand mein daalne lagein. Ohhh
pitaaji ahhhhhhhhhh meri gaand ahhhhhhhhhh. Unki ungli mere ched ko
kholte huwe andar gayi meri gaand mein. Maine mudkar pitaji ko dekha
aur kaha, kitne baein gaandu hain aap pitaji ohhhhh meri gaand….ummmm.


Pitaji ne apni nikaal li meri gaand se aur mujhe phir turn karke meri
peeth par sulaya. Pitaji ka lund nazar aa raha tha mujhe. Maine uthkar
usko pakda aur uske supaade ko peeche kiya aur turant lund ko apne muh
mein daal diya ummmmmmmm ohhhhhhhh….pitaaji toh jaise dekhte hi reh
gaye ki unki pyaari si bitiya randi ban gayi hain. Maine pitaji ke
lund ko zor zor se chusa….unke supade par apni jeeb pheri…ummmmm kitna
pyaara aur meetha lag raha tha unka lund .


Phir maine lund par thook diya aur unke lund ko chaatne lagin ummm.
Pitaji ne meri taraf dekha aur bolein…"tu to apni ma se bhi accha
choos leti hain"… Pitaji ne lund mere muh se nikaal diya meri chut ko
chumne lagein. Meri chut jo pehle se gili thi, pitaji ke honton ke
sparsh se jaise usmein aag lagne lagin ummm. Maine pitaji ke balon ko
padka aur unhe zor se apni chut par dabaya. Pitaji meri chut par apne
honton ko ragadne lagein.


Mein bas moan karti rahi ummm ahhhhhh pitaji aapki beti ki
chuttttttttt kais lagi ummm. Pitaji ne kuch nahi kaha lekin phir meri
chut ko kholkar apni jeeb meri chut mein daal di. Uffffffffff ahhhhh
pitaji……..mujhse raha nahi gaya aur mein jhad gayi. Meri chut ka saara
paani unke jeeb aur muh mein chala gaya . Pitaji ne usko chusa aur zor
zor se meri chut par apni jeeb ragadte rahein.


Phir unhone apna lund meri chut par ragda aur meri kamar pakadkar meri
chut par apna lund dhakel diya. Meri gili chut mein unka lund andar
jaane laga. Ek zor ke jhatka laga aur unka pura lund meri chut mein ja
ghusa. Ahhhhhhh ohhhhhhhh mmaaaa Maine apni tangein bandh ki aur chut
ke darwaze jaise hi kareeb aayein… maine pitaji ke lund ko mehsoos
kiya. Unka mota lund meri chut ke andar dafan tha. Unhone lund ko
nikaala aur mujhe dikhaaya. Maine lund par kuch khoon laga dekha.


Pitaji ne kaha "Kusum teri chut ka darwaaza khul gaya hain. ab tujhe
roz chodunga…pitaaji ne phir se apna lund meri chut mein daal diya aur
meri chut mein lund ko andar-baahar karne lagein. Ahhhhhhhh ohhhhh
ummm pitaji zor zor se pelon meri chut ko. Aur zor se karo pitaji
aahhhhh um tumhaari beti ki chut abse sirf aapki hain pitaaji. Aapko
jitna chahe…jab jee karein meri chudai kiya karo ummm ohhh kitna maza
aa raha hain ummm.


Pitaji se mere mamon ko padka aur zor zor se dabane lagein. chudai
karte waqt meti chuchiyaan dabane lagein. Meri bhi kamar uthaakar
pitaji ke jhatko ka saath de rahi thi. Kuch der baad pitaaji ne ane
lund ka saara paani meri chut mein undel diya. or mari pyasi kanwari
chut ki pyas bujh gaye. woh Pitajee tusee jabusrdust ho.

Tags = Future | Money | Finance | Loans | Banking | Stocks | Bullion |
Gold | HiTech | Style | Fashion | WebHosting | Video | Movie | Reviews
| Jokes | Bollywood | Tollywood | Kollywood | Health | Insurance |
India | Games | College | News | Book | Career | Gossip | Camera |
Baby | Politics | History | Music | Recipes | Colors | Yoga | Medical
| Doctor | Software | Digital | Electronics | Mobile | Parenting |
Pregnancy | Radio | Forex | Cinema | Science | Physics | Chemistry |
HelpDesk | Tunes| Actress | Books | Glamour | Live | Cricket | Tennis
| Sports | Campus | Mumbai | Pune | Kolkata | Chennai | Hyderabad |
New Delhi | पेलने लगा | कामुकता | kamuk kahaniya | उत्तेजक | सेक्सी
कहानी | कामुक कथा | सुपाड़ा |उत्तेजना | कामसुत्रा | मराठी जोक्स |
सेक्सी कथा | गान्ड | ट्रैनिंग | हिन्दी सेक्स कहानियाँ | मराठी सेक्स |
vasna ki kamuk kahaniyan | kamuk-kahaniyan.blogspot.com | सेक्स कथा |
सेक्सी जोक्स | सेक्सी चुटकले | kali | rani ki | kali | boor | हिन्दी
सेक्सी कहानी | पेलता | सेक्सी कहानियाँ | सच | सेक्स कहानी | हिन्दी
सेक्स स्टोरी | bhikaran ki chudai | sexi haveli | sexi haveli ka such
| सेक्सी हवेली का सच | मराठी सेक्स स्टोरी | हिंदी | bhut | gandi |
कहानियाँ | चूत की कहानियाँ | मराठी सेक्स कथा | बकरी की चुदाई | adult
kahaniya | bhikaran ko choda | छातियाँ | sexi kutiya | आँटी की चुदाई |
एक सेक्सी कहानी | चुदाई जोक्स | मस्त राम | चुदाई की कहानियाँ | chehre
ki dekhbhal | chudai | pehli bar chut merane ke khaniya hindi mein |
चुटकले चुदाई के | चुटकले व्‍यस्‍कों के लिए | pajami kese banate hain |
चूत मारो | मराठी रसभरी कथा | कहानियाँ sex ki | ढीली पड़ गयी | सेक्सी
चुची | सेक्सी स्टोरीज | सेक्सीकहानी | गंदी कहानी | मराठी सेक्सी कथा |
सेक्सी शायरी | हिंदी sexi कहानिया | चुदाइ की कहानी | lagwana hai |
payal ne apni choot | haweli | ritu ki cudai hindhi me | संभोग
कहानियाँ | haveli ki gand | apni chuchiyon ka size batao | kamuk |
vasna | raj sharma | sexi haveli ka sach | sexyhaveli ka such | vasana
ki kaumuk | www. भिगा बदन सेक्स.com | अडल्ट | story | अनोखी कहानियाँ |
कहानियाँ | chudai | कामरस कहानी | कामसुत्रा ki kahiniya | चुदाइ का
तरीका | चुदाई मराठी | देशी लण्ड | निशा की बूब्स | पूजा की चुदाइ |
हिंदी chudai कहानियाँ | हिंदी सेक्स स्टोरी | हिंदी सेक्स स्टोरी |
हवेली का सच | कामसुत्रा kahaniya | मराठी | मादक | कथा | सेक्सी नाईट |
chachi | chachiyan | bhabhi | bhabhiyan | bahu | mami | mamiyan | tai
| sexi | bua | bahan | maa | bhabhi ki chudai | chachi ki chudai |
mami ki chudai | bahan ki chudai | bharat | india | japan |यौन,
यौन-शोषण, यौनजीवन, यौन-शिक्षा, यौनाचार, यौनाकर्षण, यौनशिक्षा, यौनांग,
यौनरोगों, यौनरोग, यौनिक, यौनोत्तेजना,
aunty,stories,bhabhi,choot,chudai,nangi,stories,desi,aunty,bhabhi,erotic
stories,chudai,chudai ki,hindi stories,urdu stories,bhabi,choot,desi
stories,desi aunty,bhabhi ki,bhabhi chudai,desi story,story
bhabhi,choot ki,chudai hindi,chudai kahani,chudai stories,bhabhi
stories,chudai story,maa chudai,desi bhabhi,desi chudai,hindi
bhabhi,aunty ki,aunty story,choot lund,chudai kahaniyan,aunty
chudai,bahan chudai,behan chudai,bhabhi ko,hindi story chudai,sali
chudai,urdu chudai,bhabhi ke,chudai ladki,chut chudai,desi kahani,beti
chudai,bhabhi choda,bhai chudai,chachi chudai,desi choot,hindi kahani
chudai,bhabhi ka,bhabi chudai,choot chudai,didi chudai,meri
chudai,bhabhi choot,bhabhi kahani,biwi chudai,choot stories, desi
chut,mast chudai,pehli chudai,bahen chudai,bhabhi boobs,bhabhi
chut,bhabhi ke sath,desi ladki,hindi aunty,ma chudai,mummy
chudai,nangi bhabhi,teacher chudai, bhabhi ne,bur chudai,choot
kahani,desi bhabi,desi randi,lund chudai,lund stories, bhabhi
bra,bhabhi doodh,choot story,chut stories,desi gaand,land choot,meri
choot,nangi desi,randi chudai,bhabhi chudai stories,desi mast,hindi
choot,mast stories,meri bhabhi,nangi chudai,suhagraat chudai,behan
choot,kutte chudai,mast bhabhi,nangi aunty,nangi choot,papa
chudai,desi phudi,gaand chudai,sali stories, aunty choot,bhabhi
gaand,bhabhi lund,chachi stories,chudai ka maza,mummy stories, aunty
doodh,aunty gaand,bhabhi ke saath,choda stories,choot urdu,choti
stories,desi aurat,desi doodh,desi maa,phudi stories,desi mami,doodh
stories,garam bhabhi,garam chudai,nangi stories,pyasi bhabhi,randi
bhabhi,bhai bhabhi,desi bhai,desi lun,gaand choot,garam aunty,aunty ke
sath,bhabhi chod,desi larki,desi mummy,gaand stories,apni
stories,bhabhi maa,choti bhabhi,desi chachi,desi choda,meri
aunty,randi choot,aunty ke saath,desi biwi,desi sali,randi
stories,chod stories,desi phuddi,pyasi aunty,desi
chod,choti,randi,bahan,indiansexstories,kahani,mujhe,chachi,garam,desipapa,doodhwali,jawani,ladki,pehli,suhagraat,choda,nangi,behan,doodh,gaand,suhaag
raat, aurat,chudi, phudi,larki,pyasi,bahen,saali,chodai,chodo,ke
saath,nangi ladki,behen,desipapa stories,phuddi,desifantasy,teacher
aunty,mami stories,mast aunty,choots,choti choot, garam choot,mari
choot,pakistani choot,pyasi choot,mast choot,saali stories,choot ka
maza,garam stories,,हिंदी कहानिया,ज़िप खोल,यौनोत्तेजना,मा
बेटा,नगी,यौवन की प्या,एक फूल दो कलियां,घुसेड,ज़ोर ज़ोर,घुसाने की
कोशिश,मौसी उसकी माँ,मस्ती कोठे की,पूनम कि रात,सहलाने लगे,लंबा और
मोटा,भाई और बहन,अंकल की प्यास,अदला बदली काम,फाड़ देगा,कुवारी,देवर
दीवाना,कमसीन,बहनों की अदला बदली,कोठे की मस्ती,raj sharma stories
,पेलने लगा ,चाचियाँ ,असली मजा ,तेल लगाया ,सहलाते हुए कहा ,पेन्टी ,तेरी
बहन ,गन्दी कहानी,छोटी सी भूल,राज शर्मा ,चचेरी बहन ,आण्टी ,kamuk
kahaniya ,सिसकने लगी ,कामासूत्र ,नहा रही थी ,घुसेड दिया
,raj-sharma-stories.blogspot.com ,कामवाली ,लोवे स्टोरी याद आ रही है
,फूलने लगी ,रात की बाँहों ,बहू की कहानियों ,छोटी बहू ,बहनों की अदला
,चिकनी करवा दूँगा ,बाली उमर की प्यास ,काम वाली ,चूमा फिर,पेलता ,प्यास
बुझाई ,झड़ गयी ,सहला रही थी ,mastani bhabhi,कसमसा रही थी ,सहलाने लग
,गन्दी गालियाँ ,कुंवारा बदन ,एक रात अचानक ,ममेरी बहन ,मराठी जोक्स
,ज़ोर लगाया ,मेरी प्यारी दीदी निशा ,पी गयी ,फाड़ दे ,मोटी थी ,मुठ
मारने ,टाँगों के बीच ,कस के पकड़ ,भीगा बदन
,kamuk-kahaniyan.blogspot.com ,लड़कियां आपस ,raj sharma blog ,हूक खोल
,कहानियाँ हिन्दी ,चूत ,जीजू ,kamuk kahaniyan ,स्कूल में मस्ती ,रसीले
होठों ,लंड ,पेलो ,नंदोई ,पेटिकोट ,मालिश करवा ,रंडियों ,पापा को हरा दो
,लस्त हो गयी ,हचक कर ,ब्लाऊज ,होट होट प्यार हो गया ,पिशाब ,चूमा चाटी
,पेलने ,दबाना शुरु किया ,छातियाँ ,गदराई ,पति के तीन दोस्तों के नीचे
लेटी,मैं और मेरी बुआ ,पुसी ,ननद ,बड़ा लंबा ,ब्लूफिल्म, सलहज ,बीवियों
के शौहर ,लौडा ,मैं हूँ हसीना गजब की, कामासूत्र video ,ब्लाउज ,கூதி
,गरमा गयी ,बेड पर लेटे ,கசக்கிக் கொண்டு ,तड़प उठी ,फट गयी ,भोसडा
,hindisexistori.blogspot.com ,मुठ मार ,sambhog ,फूली हुई थी ,ब्रा पहनी
,چوت ,

--

No comments:

erotic_art_and_fentency Headline Animator